Followers

Saturday, 14 July 2012

सदा खिलाना गुल नया, नया कजिन मुसकाय -


करे बहाना आलसी,  अश्रु बहाना काम |
होय दुर्दशा देह की,  जब से लगी हराम  ।।

अन्न पकाना छोड़ दी, कान पकाना रोज   |
सास-बहू में पिस रहा, अभिनेता मन खोज ।।

दही जमाना भूलती, रंग जमाना याद |
करे माडलिंग रात-दिन, बढ़ी मित्र तादाद ||

पुत्र खिलाना भाय ना, निकल शाम को जाय |
सदा खिलाना गुल नया,  नया कजिन मुसकाय ||

14 comments:

  1. ...ये कौन परी है?...जरा अता पता तो बताइए रविकर जी!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. रचना रचना रवि-करे, रचना रची न जाय |
      रचना रविकर थी पड़ी, चला यहाँ चिपकाय ||

      Delete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (15-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  5. दही जमाना भूलती, रंग जमाना याद |
    करे माडलिंग रात-दिन, बढ़ी मित्र तादाद ||
    अजी क्या बात है .सजीव कर दियो आधुनिका का चित्र आपने .

    ReplyDelete
  6. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  9. ये लो अब ये भी कर लिया
    लाल में नीला भर लिया ।

    ReplyDelete
  10. पकाना खिलाना छोड़कर,शुरू किया ये काम,
    मिलना जुलना कुछ नही,कमा रहे हो नाम,,,,,,

    ReplyDelete
  11. करे बहाना आलसी, अश्रु बहाना काम |
    होय दुर्दशा देह की, जब से लगी हराम ।।

    सुंदर दोहे ...!!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर दोहे ...अत्यंत प्रभावी अभिव्यक्ति
    सादर !!!

    ReplyDelete