Followers

Thursday, 8 November 2012

हँस हठात हत्या करे, रहे ऐंठ बल खाय

कातिल क्या तिल तिल मरे, तमतमाय तुल जाय ।
हँस हठात हत्या  करे, रहे ऐंठ बल खाय ।

 
रहे ऐंठ बल खाय, नहीं अफ़सोस तनिक है ।
कहीं अगर पकड़ाय, डाक्टर लिखता सिक है ।

 
मिले जमानत ठीक, नहीं तो अन्दर हिल मिल ।
खा विरयानी मटन, मौज में पूरा कातिल ।।

4 comments:

  1. ये कुछ कु -चक्र अपराध के पीछे जीवन खंडों का होता है शेष बचपन में हुई बाद सुलूकी का ,एब्यूज का ,इसीलिए परवरिश पे आज ज्यादा ध्यान देने की ज़रुरत है .

    ReplyDelete
  2. कहीं अगर पकड़ाय, डाक्टर लिखता सिक है
    very true

    ReplyDelete
  3. बड़ भागी जो अपराध करे
    खबरन सब अखबार सजे
    ठूँसे बिरयानी मौज करे
    भारत की जनता टैक्स भरे।

    ReplyDelete