Followers

Sunday, 8 July 2012

बिगड़े बिगड़े हाल, केमिकल जहरीला था


आम पाल के खा चुके , जिसमें  भरे  बवाल  |
पका केमिकल से मगर, बिगड़े बिगड़े हाल |

बिगड़े बिगड़े हाल, केमिकल जहरीला  था |
नहीं रहा स्वादिष्ट, दीखता  बस  पीला  था |

प्राकृतिक  सुस्वाद , खाइए आम डाल के |
रखो स्वजन का ख्याल, छोडिये आम पाल के ||

अपना तो देशी भला, पाचक लागे नीक ।।

5 comments:

  1. सब को जल्दी है
    पकाने की
    किसी पडी़ है
    थोड़ा सा रुक जाने की !!!

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. बहुत सुंदर। नेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

      Delete
  3. यह रसाल है पाल का,भीतर पाले रोग
    चटपट में मत भूलिए,कैसे रहें नीरोग!

    ReplyDelete
  4. आज फिर आम डाल के खाए ,

    बाबा बहुत याद आए ,लगाए पेड़ उन्होंने थे ,आम के ,

    छोड़ा चस्का पाल का ,खाओ आम डाल का .बढ़िया प्रस्तुति .

    ग्रीन खाओ ,ग्रीन रहो ,ग्रीन हो जाओ .

    ReplyDelete