Followers

Sunday, 27 January 2013

मर मामा मारीच तू , बा-शिंदे दसबाहु -



काले गोरे छोरटे, भोरे भोरे जोड़ ।
जोड़े जोड़े में जमे, हो बाइक से होड़।  

हो बाइक से होड़, कर प्रेयसी को टा-टा
तोड़ें ट्रैफिक रूल, भरे दारुण फर्राटा

हो थोड़ी सी चूक, जहाँ वह दाना डाले ।
लाल रक्त के थाक, दिखेंगे काले काले ।।


आया राहुल राज है, समझ राज के राहु ।
मर मामा मारीच तू , बा-शिंदे दसबाहु ।
बा-शिंदे दसबाहु , सुरक्षित सिया रहेगी ।
स्वर्ण-छाल की चाह, राम से नहीं कहेगी ।
 लक्ष्मण-रेखा कहाँ, कहाँ छल कपटी माया ।
आश्वासन के बोल, राम से लेकर आया ।।


2 comments: