Followers

Tuesday, 15 January 2013

माना पाक-परस्त हैं, पर करिए ये गौर -

@ट्वीटर कमाल खान :अफज़ल गुरु के अपराध का दंड जानें .



 


नहीं नहीं जल्दी नहीं,  इक मौका दो और ।
माना पाक-परस्त हैं, पर करिए ये गौर ।


पर करिए ये गौर, पुन: हमला हो जाए ।
करे सुरक्षा कर्म, आठ दस जन मर जाए ।


साथ मरें दस-बीस, रीस जिनपर है भारी ।

इन्तजार कर मित्र, कटे जब  पारी पारी ।।

2 comments:

  1. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete