Followers

Sunday, 24 November 2013

रंग धर्म क्षेत्रीयता, पद मद के दुष्कृत्य

कुंडलियां 

(१)

मानव समता पर लगे, प्रश्न चिन्ह सौ नित्य ।
 रंग धर्म क्षेत्रीयता, पद मद के दुष्कृत्य । 

पद मद के दुष्कृत्य , श्रमिक रानी में अंतर । 
प्राण तत्व जब एक, दिखें क्यूँ भेद भयंकर ।

रविकर चींटी देख, कभी ना बनती दानव । 
रखे परस्पर ख्याल, सीख ले इनसे मानव ॥ 


(२)

बड़ा स्वार्थी है मनुज, शक्कर खोपर चूर  । 
चींटी खातिर डालता, शनि देते जब घूर । 

शनि देते जब घूर, नहीं तो लक्ष्मण रेखा । 
मानव कितना क्रूर, कहीं ना रविकर देखा । 

कर्म-योगिनी श्रेष्ठ,  नीतिगत बंधन तगड़ा । 
रखें चीटियां धैर्य,  व्यर्थ ना जाँय हड़बड़ा ॥ 

3 comments:


  1. वाह क्या बात है शब्द सौंदर्य देखते ही बनता है रचना का शब्द चयन भी अर्थपूर्ण सौंदर्य लिए है।

    ReplyDelete
  2. उम्दा...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मुकेश और मेरा संगीत

    ReplyDelete
  3. मानव कितना क्रूर, कहीं ना रविकर देखा ।

    वाह भई वाह !!
    बधाई आपको !!

    ReplyDelete