Followers

Friday, 15 November 2013

अंग अंग दे बेंच, देख रविकर का बूता-

खलियाना खलता नहीं, चमड़ी धरो उतार |
मँहगाई की मार से, बेहतर तेरी मार |

बेहतर तेरी मार, बना के पहनो जूता |
अंग अंग दे बेंच, देख रविकर का बूता |

जीना हुआ मुहाल, भला है बूचड़-खाना -
झटका अते हलाल, शुरू कर तू खलियाना ||

1 comment: